पुरानी और नई एनसीईआरटी पुस्तकों में क्या अंतर है?

आईएएस तैयारी के लिए एनसीईआरटी और एनआईओएस पुस्तकें

NCERT and NIOS Books for IAS Preparations


NCERT Booksसिविल सेवाओं की परीक्षाओं की तैयारी के लिए, एनसीईआरटी और एनआईओएस पुस्तकों को पढ़ने के लिए हर कोई बताता है उम्मीदवार इस बात के महत्व को समझते भी हैं। किन्तु बहुत सारे उम्मीदवारों को यह समझ में ही नहीं आता कि ये किताबें कैसे पढ़ी जाएं। इसलिए, आईएसप्लैनर की टीम इन पुस्तकों का विश्लेषण कर एक तर्कसंगत रणनीति प्रस्तुत कर रही है जो आप सभी के लिये अतिउपयोगी साबित होगी

दरअसल, ये किताबें सिविल सेवाओं की तैयारी शुरू करने में बहुत सहायक होती हैं, क्योंकि इन पुस्तकों की सामग्री की भाषा सरल व ग्राफिक्स/चित्र इत्यादि से युक्त होती है जिससे अभ्यर्थी अध्ययन करते समय िसी भी विषय को आसानी समझ पाते हैं। एनसीईआरटी और एनआईओएस किताबों से किसी भी अवधारणा को समझना बहुत ही आसान बन जाता है क्योंकि इन पुस्तकों को आमतौर पर स्कूल लेवल के छात्रों के लिए संकलित किया जाता है, जटिलता का स्तर न्यूनतम स्तर पर रखा जाता है। इस प्रकार, अभ्यर्थी इस परीक्षा की तैयारी के लिये पुस्तकों में दिए गए तथ्यों को आसानी से समझने में सक्षम हो जते है

सिविल सेवा परीक्षा के दृष्टिकोण से एनसीईआरटी और एनआईओएस की पुस्तकों का अध्ययन करने के बारे में सीखना अतिमहत्वपूर्ण है, इसका मुख्य उद्देश्य, विभिन्न मुद्दों और अवधारणाओं के बारे में व्यापक विचार प्राप्त करना है, जो विभिन्न विषयों की नींव बनाते हैं। हालांकि, इन पुस्तकों की सामग्री विभिन्न अवधारणाओं के लिये Fundamental (Basic Facts & Principles) नजरिया को प्रदान करती है, इसलिए अभ्यर्थियों को इन पुस्तकों पर पूरी तरह से निर्भर नहीं रहना चाहिए। हमें चाहिये कि हम इनका उपयोग अपनी अवधारणाओं और विषयों की व्यापकता समझने के लिये करें।

एक अच्छी तैयारी के लिए, आपको अन्य संसाधनों के साथ, एनसीईआरटी और एनआईओएस सामग्री में दी गयी सामग्री का प्रयोग करना होगा। इन पुस्तकों का उद्देश्य आपके प्रारंभिक चरणों में आपका मार्गदर्शन करना है। इन पुस्तकों को पढ़ते समय आपको ध्यान देने वाली विभिन्न अवधारणाओं और शर्तों पर ध्यान देना चाहिए। इन पुस्तकों में जटिलता का स्तर बहुत ज्यादा नहीं है, इसलिए आप एक बहुत आसानी और संक्षिप्त भाषा में अवधारणाओं, परिभाषाओं को समझने में सक्षम होंगे। इस प्रकार, आप इन पुस्तकों में उल्लिखित सभी संबंधित विषयों और मुद्दों की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने में सक्षम हो जाते हैं


पुरानी और नई पुस्तकों में अंतर


हजारों उम्मीदवार इस उलझन में रहते हैं कि पुरानी एनसीईआरटी किताबें पढ़नी हैं या नई ? क्या है यह भ्रम ?

अभ्यर्थियों को सबसे पहले इस तथ्य को समझने की आवश्यकता है कि दोनों (पुरानी व नई) स्रोत अच्छे व उपयोगी हैं, और आपके अध्ययन व लक्ष्य प्राप्त करने के लिये पर्याप्त होंगी। हालांकि, पुराने एनसीईआरटी आम तौर पर सामग्री और विवरण में अधिक समृद्ध हैंनई एनसीईआरटी में कई विषय परीक्षाओं के बदलते पाठ्यक्रम और राजनीतिक विवादों के कारण हटा दिये गए हैं।

याद रहे कि आपको एनसीईआरटी की पुस्तकों की विश्वसनीयता के बारे में ज्यादा परेशान नहीं होना चाहिए। आमतौर पर, दोनों नए और पुराने एनसीईआरटी, नागरिक सेवाओं के लिए तैयारी में आपकी सहायता प्रभावी ढंग से करेगी। इस प्रकार, दोनों पुस्तकों को एक साथ पढ़ने में अपना समय बर्बाद न करें

ये पुस्तकें, आपको बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जानी चाहिए। पुरानी एनसीईआरटी की किताबें आम तौर पर उपलब्ध नहीं होती हैं, इसलिए, पुरानी पुस्तकों के लिए बाजारों की खोज के बजाय, आसानी से उपलब्ध होने वाली पुस्तकों के साथ तैयारी रना बेहतर है।


कुछ जरूरी बातें


  • ध्यान रहे कि ये पुस्तकें परीक्षाओं के लिए मुख्य अध्ययन सामग्री नही होती यह केवल  संबंधित विषयों और मुद्दों पर अपनी बेसिक नॉलेज की नींव बनाने के लिए होती हैं।
  • इन पुस्तकों का अध्ययन धीरे-धीरे सावधानीपूर्वक करें, क्योंकि शुरुआत की प्रक्रिया सबसे महत्वपूर्ण है विभिन्न अवधारणाओं को ध्यान से पढ़ें और उन्हें समझें
  • ये किताबें आईएएस परीक्षा के परिप्रेक्ष्य से व्यापक नहीं हैं, इसलिये आपको इन पुस्तकों में दिए गए ज्ञान के अतिरिक्त अन्य अध्ययन सामग्रियों के साथ तैयारी करनी चाहिए।
  • यह कतई आवश्यक नहीं है कि आप दोनो प्रकार (एनसीईआरटी और एनआईओएस) पुस्तकों का अध्ययन करें, बल्कि अभ्यर्थी यदि प्रत्येक विषय के लिए इनमें से किसी भी पुस्तक को आपने विषय के लिये पढ़ें तो यह पर्याप्त होगा

प्रारंभिक परीक्षा के लिये उपयोगी अध्ययन सामग्री


data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Go to Monthly Archive