आईएएस परीक्षा के लिए पढ़ाई (Reading Skills) के कौशल को कैसे विकसित करें।

यूपीएससी परीक्षा के लिए अपनी पढ़ाई के कौशल को कैसे विकसित करें।


Reading Improvement Tips for UPSC Exam

प्रभावी रीडिंग (पाठन) यूपीएससी आईएएस परीक्षा में सफल होने के लिये महत्वपूर्ण कौशलों मे से एक है। अध्ययन के दौरान यह हमारी एक आदत बन जाती है क्योंकि आप जितना अधिक पढ़ते हैं, आप उतने ही सफल और प्रभावी पाठक बन जाते हैं। यूपीएससी आईएएस उम्मीदवारों को पढ़ने की आदत को तैयारी के एक भाग के तौर नहीं बल्कि एक आदत के रूप में लेना चाहिए, जिससे आप के भीतर विभिन्न विषयों की व्यापक समझ का विकास होता है।

हम सभी यह जानते हैं कि संघ लोक सेवा आयोग तीन चरणों में सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है - प्रथम चरण है प्रीलिम्स (Preliminary or Prelims Exam), दूसरा चरण है मुख्य परीक्षा (Main Exam), और तीसरा चरण है साक्षात्कार (Personality Test or Interview)। यूपीएससी की इस परीक्षा के तीनों चरणों के लिए एक विस्तृत पठन-पाठन आवश्यक है क्योंकि उम्मीदवारों को अपने विचारों को एक विस्तृत तरीके से विभिन्न विषयों पर चित्रित करना होता है। यूपीएससी के उम्मीदवारों को न केवल उनकी अध्ययन सामग्री बल्कि अख़बारों, पत्रिकाओं और अन्य पुस्तकों के माध्यम से ज्ञान की क्षितिज को विस्तारित करना चाहिए। इससे आपकी यूपीएससी आईएएस परीक्षा की तैयारी पूरी हो जाएगी।

आईएएस परीक्षा में पढ़ने के कौशल को विकसित करने का तरीका।

यूपीएससी ने सिविल सेवा परीक्षा की तारीखों की घोषणा कर दी है। यहां हम आपको अपनी पढ़ाई की आदत को विकसित करने के लिए कुछ रणनीतियां दे रहे हैं।

  • प्रथम चरण में उम्मीदवारों को एक स्थानीय पुस्तकालय में सदस्यता लेनी चाहिए।
  • यदि हो सके तो उम्मीदवारों को पुस्तक क्लब (Book Club) या अध्ययन के लिये अन्य उम्मीदवारों के साथ एक समूह में शामिल होना चाहिए , क्योंकि इससे समूह अध्ययन (Group Study) भी करने में सक्षम रहेंगे।
  • प्राय: अभ्यर्थी किसी विषय की पुस्तक को पूरा करने के लिए एक लक्ष्य निर्धारित करते हैं, क्योंकि यूपीएससी आईएएस परीक्षा का व्यापक पाठ्यक्रम व्यवस्थित और सूचीबद्ध तरीके से एक उचित समयसीमा के भीतर समाप्त करना होता है।
  • योजना, कुरुक्षेत्र जैसे नियमित पत्रिकाएं की सदस्यता लें व नियमित रूप से समाचार पत्र पढ़ें, क्योंकि समसामयिकी भाग की तैयारी भी यूपीएससी आईएएस परीक्षा के बहुत लिए आवश्यक हैं।

पढ़ने की आदत को विकसित करने के लिए कुछ सुझाव।

  • जब भी आप अपनी अध्ययन सामग्री को पढ़ने के लिये खोलते हैं, तो उसे गंभीरता से चुनें कि आपको क्या पढ़ना चाहिए और क्या-क्या पढ़ना चाहिये या वो जिसे आपको अभी पढ़ने की जरुरत है।
  • उम्मीदवारों को 30 से 40 मिनट के अंतराल पर पढ़ने के बाद 10 से 15 मिनट का समय नोट्स बनाने के लिये देना चाहिये। इससे आप उस विशिष्ट क्षेत्र या टॉपिक के लिये एक ब्योरा लिख सकें जिसका आपने अध्ययन कर किया है।
  • पढ़ना आंखों के लिए एक कसरत भी है, लेकिन आंखों पर बहुत अधिक बोझ नहीं पड़ना चाहिए, इसलिये अध्ययन के समय में हर एक घंटे एक ब्रेक लेने की सलाह दी जाती है।
  • ब्रेक 10 से 15 मिनट तक का हो सकता है और आप 15 मिनट से अधिक के समय का ब्रेक लेते हैं तो उम्मीदवार के मन पढ़ाई से विचलित हो सकता है, इसलिये ब्रेक के तुरंत बाद पढ़ना जारी रखें।

data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Go to Monthly Archive