प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (भूगोल) - चट्टान (ROCKS)

Civil Services Preliminary Examination
General Studies Paper - 1
भूगोल (Geography)


PHYSICAL GEOGRAPHY

चट्टान (ROCKS)

खनिज तत्वों के मिश्रण से निर्मित ठोस को चट्टान कहते हैं।


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/upsc-physical-geography-5.png

मैग्मा में Silica की मात्रा मैग्मा की अम्लीयता 

SiO2

FeNi

Silica की मात्रा α गलनांक

रेत

लोहा निकले

Silica की मात्रा α मैग्मा का गाढ़ापन हल्का भारी तत्व
V- Constant  
D α M  
Silica की मात्रा α

1
--------------------
मैग्मा का घनत्व

मैग्मा में Silica की मात्रा मैग्मा के प्रकार आभ्यांतरिक आग्नेय चटटान बाह्य आग्नेय चटटान
77% से अधिक Silsic / Acidic ग्रेनाइट (Granite) रायोलाइट (Rhyolite)
55% - 77% Intermediate डायोराइट (Diorite) एडेसाइट (Andesite)
45% - 55% Basic (क्षारीय) गैरबा (Gabra) बसाल्ट (Basalt)

45% से कम

अत्यधिक क्षारीय (Ultra Basis) Peridotite Silica की मात्रा
  • अम्लीयता
  • गाढ़ेपन
  • घनत्व

http://www.iasplanner.com/civilservices/images/upsc-physical-geography-6.png

ज्वालामुखी क्रिया के समय गर्म गलित पदार्थ के शीतलीकरण के कारण आग्नेय चटटान से निर्मित संरचना का निर्माण होता है। पृथ्वी की अन्दर के परतो में मैग्मा के शीतलीकरण से अभ्यातिक आग्नेय चटटान से सतह पर लावा के शीतलीकरण के कारण आग्नेय चटटान से निर्मित संरचना का विकास होता है। गर्म गालित पदार्थ के शीतलीकरण के कारण चट्टानी संरचना का विकास होने के कारण आग्नेय चटटान जीवाश्म रहित होने के साथ रवेदार होते है। चूंकि शीतलीकरण के दर का रवे के आकर से opposite संबध होता है।

इसलिए अभयाँत्रिक आग्नेय चटटान की अपेक्षा बाह्य आग्नेय चटटान में रवे का आकार छोटा होता है। जीबश्म रहित संरचना होने के कारण कोयला, खनिज, तेल और प्राकृतिक गैस के भण्डार नहीं मिलते है। लेकिन घात्विक और अधात्विक खनिज संशाधनो के भण्डार की दृष्टि से आग्नेय चटटान से निर्मित संरचना अधिक सम्पन्न होते है। वही जटिल संरचना होने के कारण आर्थिक दृष्टि से खनिज संशाधनो का दोहन अत्यंत कठिन होता है।

आनाच्छादन


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/upsc-physical-geography-4.png

चूकि अवसादी चटटान से निर्मित संरचना का विकास विभिन्न आकार के अवसादों का परतो में निच्छेपण का कारण होता है इसलिए इसे परतदार चटटान भी कहते है। निच्छेपण की प्रक्रिया के समय जीवों के अवशेष का अवसादों के साथ दबने के कारण अवसादी चटटान से निर्मित संरचना "जीवाश्म" के भी प्रमाण मिलते है इसलिए जीवाश्म ईधन के भण्डार की दृष्टि से अवसादी चटटान का आर्थिक महत्व अधिक होता है।

कायांतरण चटटान (Metamorphic Rocks)


जब विधटन की अनुपस्थिति में अत्याधिक तापमान या अत्याधिक दाल के कारण चटटान की रासायानिक संरचना में परिवर्तन के साथ भौतिक विशेषताओ में भी परिवर्तन होता है तो इस प्रक्रिया को रूपान्तरण या कायांतरण कहते है जिससे रूपांतरित चटटान का निर्माण होता है।

Granite → Gneiss (नीस)
Basalt → Greenstone
Sand Stone → Quartzite
Lime Stone → Marble
Shale → Schist



data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Go to Monthly Archive