Test Series for IAS Pre General Studies (Paper - 1)

   ORDER NOW!  

IAS Prelims &  Mains Previous Year Exam Papers

   Download Now!  

Study Kit for SSC Combined Graduate Level (Tier -I)

   ORDER NOW!  

 

General Studies

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (प्राचीन भारतीय इतिहास) पाषाण युग की संस्कृति व जीवन-शैली - भाग - २

भारतीय इतिहास: पाषाण युग की संस्कृति व जीवन-शैली
(Culture or Lifestyle of the Stone Age)


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/ancient-history.pngमध्यपाषाण काल: जीवन शैली (Mesolithic Age : Lifestyle)

परिवर्तन (Changes)


मध्यपाषाण काल का आरंभ ई. पू. 8000 के आसपास हुआ। जलवायु गर्म व शुष्क हो गई। जलवायु परिवर्तन के साथ ही पेड़-पौधे और जीव- जंतुओ में भी परिवर्तन हुए और मानव के लिए नए क्षेत्रों की ओर अग्रसर होना सभंव हुआ।

  • यह पुरापाषाण काल और नवपाषाण काल के बीच का सक्रमण काल है।
  • मध्यपाषाण काल के मानव शिकार करके मछली पकड़कर और खाध वस्तुएँ एकत्रकर अपना पेट भरते थे तथा आगे चलकर वे पशुपालन भी करने लगे । इनमे शुरू के तीन पेशे तो पुरापाषाण काल से ही चले आ रहे थे पर अंतिम पेशा नवपाषाण संस्कृति से जुड़ा है।
  • अब न केवल बड़े बल्कि छोटे जानवरो का भी शिकार होने लगा।
  • औजार बनाने की तकनीक में परिवर्तन हुआ और छोटे पत्थरो का उपयोग किया जाने लगा।
  • इस काल के महत्वपूर्ण हथियार थे - इकधार फलक (Backed Blade) , बेघनी (Points), अर्ध चन्द्रकाल (Lunate) तथा समलम्ब (Trapeze) ।
  • महत्वपूर्ण स्थल: वीरभारपुर (पश्चिम बंगाल), लधनाज (गुजरात), टेरी समूह (तमिलनाडु), आदमगढ़ (म. प्र.), बागोर (राजस्थान), महादहा, सरायनहरराय (उ. प्र.) ।
  • इस काल में सामाजिक - आर्थिक जीवन में महत्वपूर्ण परिवर्तन हुआ। जनसँख्या में वृदि हुई और आखेट की सुगमता से मनुष्य अब छोटी- छोटी टोलियो में रहने लगा। स्थाई निवास की परंपरा शुरू हुई। पशुपालन एवं कृषि की शुरुआत हुई और मिटटी के बर्तन बनने लगे।

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (प्राचीन भारतीय इतिहास) पाषाण युग की संस्कृति व जीवन-शैली - भाग - १

भारतीय इतिहास: पाषाण युग की संस्कृति व जीवन-शैली
(Culture or Lifestyle of the Stone Age)


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/ancient-history.pngपुरापाषाण काल : शिकारी और खाद्द संग्राहक (Palaeolithic Age: Hunters and Food Gatherers)

अपवाद स्वरूप दक्कन के पठार में मध्य पुरापाषाण काल और उच्च पुरापाषाण काल दोनों के औजार मिलते है। पुरापाषाण संस्कृति का उदय अभिनूतन युग में हुआ था। इस युग में धरती बर्फ से ढँकी हुई थी। भारतीय पुरापाषाण काल को मानव द्धारा इस्तेमाल किये जाने वाले पत्थर के औजारों के स्वरुप और जलवायु में होने वाले परिवर्तन के आधार पर तीन अवस्थाओ में बाँटा जाता है:

Daily MCQs For IAS Prelims (9th March - 2017)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. With reference to the Fourteenth Finance Commission, which of the following statements is/are correct?
1. It has increased the share of States in the central divisible pool from 32 percent to 42 percent.
2. It has made recommendations concerning sector-specific grants.
Select the correct answer using the code given below.
(a) 1 only
(b) 2 only
(c) Both 1 and 2
(d) Neither 1 nor 2

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (प्राचीन भारतीय इतिहास) - साहित्यिक स्रोत

भारतीय इतिहास: साहित्यिक स्रोत (Literary Sources)


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/ancient-history.pngसाहित्यिक साक्ष्य के अंतर्गत साहित्यिक ग्रंथों से प्राप्त सामग्रियो का अध्य्यन किया जाता है। इन साहित्यिक साक्ष्यों को हम दो भागों में बांटते हैं:
(1) धार्मिक साहित्य तथा (2) लैकिक साहित्य

धार्मिक साहित्य में ब्राह्मण तथा ब्राह्मणेतर ग्रन्थ आते है। पुनः ब्राह्मण ग्रंथों में वेद, उपनिषद , रामायण, महाभारत, पुराण तथा स्मृतिग्रंथ आते है, जबकि ब्राह्मणेतर ग्रंथों में बौद्ध तथा जैन साहित्य का उल्लेख किया जा सकता है। इसी तरह लौकिक साहित्य में ऐतिहासिक ग्रंथों, जीवनियाँ, कल्पना - प्रधान तथा गल्प साहित्य आते है।

Daily MCQs For IAS Prelims (8th March - 2017)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. An electric current always produces a magnetic field and this effect of magnetism is used in medicine. Consider the following statements in this regard:
1. Even weak ion currents that travel along the nerve cells in our body produce a very strong magnetic field.
2. Two main organs in the human body where the magnetic field produced is significant, are the heart and the brain.
3. The magnetic field inside pie body forms the basis of obtaining the images of different body parts and it is done “by Magnetic Resonance Imaging (MRI).
Which of the statements-given above are correct?
(a) 1 and 2 only (b) 2 and 3 only
(c) 1 and 3 only (d) 1, 2 and 3

IAS Prelims: General Studies (Ancient Indian History) - Vedic Period 1500 BC to 600 BC

Ancient Indian History

Sources: The sources of ancient Indian history are multifaceted varying from literature to coins and inscriptions to archaeological remains.


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/ancient-history.png Vedic Period (1500 BC to 600 BC)

Information of the vedic period comes from vedic- literature. The scholars have divided the vedic period into the early vedic period and the later period. The only source of information which belongs to the early vedic is the Rig Veda. All the other components of the vedic literature belong to the vedic period. The vedic literature consists of the Samhitas, Aranyakas and Upanishads. There are also six vedangas and four Upa- Vedas . The samhitas are collections of hymns sung in the praise of various gods.

They are four in number:

  1. Rig Veda
  2. Sama Veda
  3. Yajur Veda
  4. Atharva Veda

Daily MCQs For IAS Prelims (7th March - 2017)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. Paper industry plays a vital role in the socio­ economic development of any country. Consider the following statements in this regard
1. Per capita paper consumption is a yardstick to measure the modernilty.
2. The key social objective of the Government namely, eradication of illiteracy through compulsory primary education bears a direct relation with the paper industry.
3. The India paper industry plays a pivotal role in overall industrial growth and provides the vital vehicle needed to propel the knowledge based economy of the country in the new millennium.
4. Dependency on paper is more eco friendly than on electronic.
Which of the statements given above are correct?
(a) 1,2 and 3 only
(b) 2,3 and 4 only
(c) 1,3 and 4 only (d) 1,2, 3 and 4

Daily MCQs For IAS Prelims (5th March - 2017)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. Consider the following statements with regards to the Rashtriya Aarogya Nidhi Scheme:
1. The scheme is under the union Ministry of Health and family welfare, Government of India to provide financial assistance to the BPLpatients through AADHAAR.
2. The scheme provides financial assistance up to Rs 1.5 lakh rupees to BPL patients suffering from life threatening diseases in the form of a one-time grant.Which of the statements given above is/are correct?
(a) 1 only (b) 2 only
(c) Both 1 and 2 (d) Neither 1 nor 2

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (प्राचीन भारतीय इतिहास) - पुरातत्विक स्रोत

भारतीय इतिहास: प्राचीन भारतीय इतिहास के स्रोत


इतिहासकार एक वैज्ञानिक की भाँति उपलब्ध सामग्री की समीक्षा करके अतीत का सही चित्रण करने का प्रयास करता है। उसके लिए साहित्यिक सामग्री, पुरातात्विक साक्ष्य और विदेशी यात्रियों के वर्णन सभी का महत्व है।

http://www.iasplanner.com/civilservices/images/ancient-history.pngप्राचीन भारतीय इतिहास के अध्य्यन के लिए पूर्णत: शुद्ध ऐतिहासिक सामग्री विदेशी की अपेक्षा अल्प मात्रा में उपलब्ध है। यधपि भारत में यूनान के हेरोडोटरश या रोम के लिवी जैसे इतिहासकार नहीं हुए, अतः कुछ पाश्चात्य विद्धानों की यह मानसिक धारणा बन गई थी कि भारतीयों को इतिहास कि समझ ही नहीं थी। लेकिन, ऐसी धारणा बनाना भारी भूल होगी। वस्तुत: प्राचीन भारतीय इतिहास की संकल्पना आधुनिक इतिहासकारो की संकल्पना से पूर्णत: अलग थी। वर्तमान इतिहासकार ऐतिहासिक घटनाओ में कारण - कार्य संबंध स्थापित करने का प्रयास करते है लेकिन प्राचीन इतिहासकार केवल उन घटनाओ या तथ्यो का वर्णन करता था जिनमे आम जनमानस को कुछ सीखने को मिल सके।

IAS Prelims: General Studies (Ancient Indian History) - Periodisation & Eras

Ancient Indian History

Periodisation of Ancient Indian History


Palaeolithic Age 5,00,000 B.C. to 10,000 B.C. (i) Early or lower Palaeolithic Phase

(ii) Middle Palaeolithic Phase 50,000 B.C. to 40,000 B.C.

(iii) Upper Palaeolithic Phase 40,000 to 10,000 B.C.

Mesolithic Age 9,000 B.C. to 4,000 B.C.  
Neolithic Age 5,000 B.C. to 1,800 B.C.  
Chalcolithic Age 1,800 B.C. to 1,000 B.C.  
Iron Age Started from 1,000 B.C. onwards.  
Indus Valley Civilization (Harappan Civilization) 2,900 B.C. to 1,700 B.C. (i) Early Harappan phase 2,900 B.C. to 2,500 B.C.

(ii) Middle Harappan Phase (Mature Harappan Phase) 2,500 to 2,000 B.C.

(iii) Late Harappan Phase 2,000 B.C. to 1,700 B.C.

Vedic Period 1,500 B.C. to 600 B.C.  
Pre-Mauryan Age 6th Century B.C. to 300 A.D.  
Mauryan Age 321 B.C. to 184 B.C.  
Post-Mauryan Age 200 B.C. to 300 A.D.  
Gupta Period 4th Century A.D. to 6th Century A.D.  
Age of Harsha 606 A.D. to 647 A.D.  
Chalukyas of Badami 543 A.D. to 755 A.D.  
Pallavas of Kanchipuram 560 A.D. to 903 A.D.  

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (राज्यव्यवस्था) - मूल अधिकार व विशेषतायें

Polity

राज्यव्यवस्था : मूल अधिकार (Fundamental Rights)


ये अमेरिका से लिए गये है और संविधान के भाग (3) में Article 12 - Article 35 तक पाये जाते है। ये वो अधिकार हैं जो व्यक्ति के भौतिक व नैतिक विकास के लिए अनिवार्य माने जाते है व जिन्हें संविधान का विशेष संरक्षण प्राप्त है। भारत में अधिकारों को हम निम्न भागों में बांट सकते हैं:
  • मौलिक: संविधान के भाग 3 में वर्णित है। (Art. 12 - 35)
  • सवैधानिक अधिकार: संविधान में भाग 3 से बाहर प्राप्त अधिकार, Art. - 300A - संम्पत्ति का अधिकार, Art. 301 अंतर्राज्जीय व्यापार अधिकार।
  • क़ानूनी / विधिक अधिकार: जो संसद के कानून की देन है - (मातृत्व अवकाश, सेवा का अधिकार, मतदान अधिकार)।
  • मानवाधिकार: ये वे अधिकार है जो व्यक्ति को राज्य का नागरिक होने के नाते नहीं बल्कि मानव होने के नाते प्राप्त होते हैं, ये मानवीय गरिमापूर्ण जीवन के लिए अतिआवश्यक है। ये मानव होने की अनिवार्य शर्त है अतः प्रत्येक मानव को जन्म से ही प्राप्त है भले ही संविधान / कानून उन्हें स्वीकारें या नहीं।

Daily MCQs For IAS Prelims (28th February - 2017)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. Consider the following statements regarding monsoon climate:
1. Monsoon climate is the result of the shifting of pressure and wind belts.
2. Monsoons are surface convective systems which are originated due to differential
heating and cooling of the land and water (ocean) and thermal variations.
3. Monsoon climate region are more developed in northern Australia and southern USA than Indian Sub Continent and south east Asia.
Which of the statements given above is /are correct?
(a) 1 and 2 only (b) 2 only
(c) 2 and 3 only (d) 1, 2 and 3

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (राज्यव्यवस्था) - प्रस्तावना का महत्व व मूल्यांकन

Polity

राज्यव्यवस्था : प्रस्तावना का मूल्यांकन


इसका महत्व

  • यह सरकार के मार्गदर्शक का कार्य करती है।

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (राज्यव्यवस्था) - पंथनिरपेक्षता, संसदीय / राष्ट्रपतिय लोकतंत्र तथा गणराज्य

Polity

राज्यव्यवस्था: पंथनिरपेक्षता,संसदीय लोकतंत्र एवं अध्यक्षात्मक / राष्ट्रपतिय लोकतंत्र


पंथनिरपेक्षता (Secularism)


  • पंथनिरपेक्षता से तात्पर्य ऐसी व्यवस्था से है जिसमे राज्य का कोई राजकीय धर्म ना हो।
  • नागरिको के बीच धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं।
  • प्रत्येक नागरिक चाहे वह किसी भी धर्म का हो, धार्मिक स्वतंत्रता का अधिकार प्राप्त हो।

भारत एक पंथनिरपेक्षता / धर्मनिरपेक्ष देश के रूप में:

  • संविधान भारत को पंथनिरपेक्ष घोषित करता है।
  • भारत में राज्य का कोई राजकीय धर्मं नहीं है।
  • भारत में समता का अधिकार एक मौलिक अधिकार है जिसमे धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं होगा।

यूपीएससी: आईएएस सामान्य अध्ययन सिलेबस (परीक्षा पाठ्यक्रम)

भारतीय प्रशासनिक सेवा
(यूपीएससी आईएएस सिलेबस)

http://iasplanner.com/e-learning/images/upsc-banner.jpg

सामान्य अध्ययन प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam)


विषयों की सूची:

  • राष्ट्रीय और अंतर्रराष्ट्रीय महत्व की सामयिक घटनाएं.
  • भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन.
  • भारत एवं विश्व भूगोल – भारत एवं विश्व का प्राकृतिक, सामाजिक, आर्थिक भूगोल
  • भारतीय राज्यतन्त्र और शासन – संविधान, राजनैतिक प्रणाली, पंचायती राज, लोक नीति, अधिकारों संबंधी मुद्दे, आदि।
  • आर्थिक और सामाजिक विकास – सतत वकास, गरीबी, समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र में की गई पहल आदि।
  • पर्यावरणीय पारिस्थितिकी जैव-विविधता और मौसम परिवर्तन संबंधी सामान्य मुद्दे, जिनके लिए विषयगत विशेषज्ञता आवश्यक नहीं है।
  • एवं सामान्य विज्ञान

स्टडी किट: सामान्य अध्ययन प्रारंभिक परीक्षा पेपर-1 (2017)

UPSC Exam Syllabus for IAS Prelims & Mains

Introduction


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/Guidelines.jpgDear Aspirants,

Indian Administrative Services (IAS) Exam is one of the most toughest and prestigious examinations in India conducted by UPSC. Hence to win this race that gives a chance to get most eminent position offered by Government.

Here we are providing complete list of subjects/topics for Civil Services Exams syllabus as per the UPSC. Remember that a comprehensive look throughout the syllabus is mandatory in especially for those candidates who are appearing in this examination for the first time.

General Studies Planner: Civil Services Prelims

Preparation Plan for General Studies (Civil Services Prelims)

In this article we will discuss about a Plan to prepare General Studies for Civil Services Preliminary examination with the very simple flowchart, all the resources, and from where we can read it successfully. We have provided a flowchart below which showing each subject that how we can cover it very nicely.

For example: For a specific subject which NCERT books you need for it? Which magazines you must read for it? What standard text books to read and overall the newspapers for it.

प्रांरभिक परीक्षा सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र के लिए अचूक रणनीति

प्रांरभिक परीक्षा - सामान्य अध्ययन

रणनीति निर्धारण


Samanya Adhyayanइस सेवा में भविष्य बनाने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये आपमें मेहनत, एकाग्रता, आत्मविश्वास व कुशल प्रबंधन का होना अनिवार्य है। युवा अभ्यर्थी एक प्रमुख बात का ध्यान रखें कि यह सिविल सर्विस सिर्फ एक उज्ज्वल भविष्य की ही बात नहीं है, बल्कि यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी की सेवा भी हैं और इसमें सेवा के लोकतांत्रिक मूल्यों को बनाए रखने व जनहित में काम करने की आवश्यकता होगी। सिविल सर्विस परीक्षा एस० एस० सी०, बैंकिग, रेलवे व अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तरह एक सामान्य परीक्षा नहीं है, "यह एक मिशन है"।

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (राज्यव्यवस्था) - प्रस्तावना

Polity

राज्यव्यवस्था : प्रस्तावना (Preamble)


यह संविधान के लिये आमुख की तरह है जिससे संविधान के उद्देश्यों, आदर्शों, शासन प्रणाली के स्वरूप व संविधान लागू होने का वर्णन होता है।

प्रस्तावना लिखित संविधान की विशेषता मानी गयी है। पंडित जवाहरलाल नेहरू ने 13 दिसम्बर 1946 को संविधान सभा में प्रस्ताव रखा व संविधान सभा ने इसे 22 जनवरी 1947 को स्वीकार कर लिया व यह प्रस्तावना बन गयी।

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (राज्यव्यवस्था) - भारतीय संविधान के स्रोत

Polity

राज्यव्यवस्था : भारतीय संविधान के स्त्रोत


हमारे संविधान के विशालतम होने के प्रमुख कारण।

  • संविधान निर्माता हर विषय को स्पष्टता के साथ रखना चाहते थे, ताकि भविष्य में विवाद कम हों।
  • भारत के संविधान में प्रांतों का संविधान भी शामिल है, जो इसे व्यापक बना देता है।
  • भारत में भाषायी बहुलता।
  • भारतीय समाज में अस्पष्यता, अनुसूची जाति / जनजाति से संबंधित परिस्थितियों ने संविधान की व्यापकता में योगदन दिया है।

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (राज्यव्यवस्था) - भारतीय संविधान की विशेषताएं

Polity

राज्यव्यवस्था : भारतीय संविधान की विशेषतायें


भारतीय संविधान लिखित व निर्मित है। इसका वर्गीकरण हम निम्न प्रकार से कर सकते हैं:-

(अ) लिखित : USA, India
अलिखित : Britain

(ब) निर्मित :  USA, India
विकसित : Britain

(स) कठोर / अनम्य : USA

मिश्रण → भारत

लचीला / अनम्य : Britain


Daily MCQs For IAS Prelims (4th January - 2017)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. Who among the following is also known as “Kabir of the Deccan”.
a. Basava
b. Nimbarkacharya
c. Madhvacharya
d. Tukaram

प्रारंभिक परीक्षा : सामान्य अध्ययन (राज्यव्यवस्था) - संविधान का परिचय व वर्णन

Polity

राज्यव्यवस्था : भारत का संविधान


संविधान उन प्रावधानों का संग्रह है, जिसके आधार पर किसी देश का शासन चलाया जाता है।

राज्यव्यवस्था (Polity)


राज्यव्यवस्था संविधान का अनुप्रयोग है जब संविधान को किसी देश में लागू किया जाता है तो संविधान को लागू करने के क्रम में जो कानून सरकार के निर्णय और संस्थायें उभर कर सामने आती हैं उन्हे सामूहिक रूप से राज्यव्यवस्था कहते हैं।

Daily MCQs For IAS Prelims (31st December - 2016)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. The Political Treatise of Amuktamalyamada in Telugu was written by:-
a. Harihar II
b. Dev Raja II
c. Krishna Devraya
d. Rama Raja

Daily MCQs For IAS Prelims (30th December - 2016)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. Who introduced ‘DuAspah’ & ‘SiteAspah’ system?
a. Shahjahan
b. Aurangzeb
c. Jehangir
d. Akbar

Daily MCQs For IAS Prelims (27th December - 2016)

Civil Services Preliminary - 2017

Daily MCQs
(General Studies) Practice
MCQs

1. Who was the founder Mahayan sect of Buddhism?
a. Vasumitra
b. Nagarjuna
c. Rahul Bhadra
d. Asang

http://iasplanner.com/e-learning/sites/default/files/logo_0.png
Join Free IAS Planner e-Learning

Enter your e-mail address in the Box given below and press Subscribe button to join.



NOTE: Check your Email after Subscribing and click on confirmation link to activate your subscription.
X
+ Need Help! Click Here!
Helpline : 95 60 76 84 41 or Email at iasplanner.com@gmail.com

Give us your Feedback.

How helpful this website is for you. Your Feedback is Important for us.: