आईएएस प्रीलिम्स के लिये बेसिक साइंस (एनसीईआरटी) की तैयारी कैसे करें।


प्रीमिम्स फोकस : बेसिक साइंस और एनसीईआरटी


http://www.iasplanner.com/civilservices/images/General-Science.jpg

प्रश्न १:- यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में सामान्य विज्ञान से कितने अंक की उम्मीद कर सकते हैं?
पिछले सात सालों की प्रवृत्ति के चलते, सामान्य विज्ञान अपने वर्तमान पहलुओं के साथ मिलकर यूपीएससी के प्रारंभिक परीक्षा में लगभग 10-12 प्रश्नों की उम्मीद कर सकता है।

प्रश्न २:-  यदि कोई सभी मुख्य विषयों को पढ़ रहा है जैसे राजनीति, भूगोल, अर्थव्यवस्था और इतिहास तो प्रिमिल्स के लिए विज्ञान को कवर करना कितना महत्वपूर्ण है?
छात्रों को ध्यान देना चाहिए कि सभी गंभीर उम्मीदवार मुख्य विषयों को कवर करेंगे। अतिरिक्त बढ़त पाने के लिए, वर्तमान मामलों और पर्यावरण के साथ सामान्य विज्ञान को कवर करना चाहिए।
हालांकि, पहली प्राथमिकता हमेशा प्रमुख विषयों को कवर करना होना चाहिए।

प्रश्न ३:-  मैं एक विज्ञान का छात्र नहीं हूं और मुझे इसके बारे में अधिक जानकारी नहीं है। मुझे क्या करना चाहिए?
किसी को विज्ञान में उनके मूल ज्ञान के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है। यूपीएससी परीक्षा की आवश्यकताओं के अनुसार कक्षा दस की एनसीईआरटी के विज्ञान विषय में अधिकांश बुनियादी बातों का हिस्सा कवर किया जाएगा।

प्रश्न ४:- मुझे नहीं पता कि क्या पढ़ना है। मैं कहां से शुरू करूं?
कई छात्रों को उनकी तैयारी के दौरान इसी दुविधा का सामना करना पड़ता है। एनसीईआरटी के छठवीं से दसवीं कक्षा की विज्ञान पाठ्य पुस्तकों के साथ शुरू करना सबसे अच्छा तरीका है, लेकिन शुरूआत करने से पहले छात्रों को पैटर्न समझने के लिए यूपीएससी के सिलेबस और विषय से संबंधित प्रश्नों के लिये कम से कम पिछले 5-7 वर्षों के प्रश्नपत्रों का आंकलन करना चाहिए।

प्रश्न ५:- एनसीईआरटी साइंस पाठ्य पुस्तकों से क्या पढ़ सकते हैं?
छात्रों को कक्षा आठ से कक्षा दस की सभी एनसीईआरटी को पढ़ना होगा। एक सामान्य दिशानिर्देश के रूप में, हम यह कह सकते हैं कि ज्यादा समीकरण, गणना, सूत्र, मूल परिभाषाओं और एप्लिकेशन भाग पर ध्यान केंद्रित न करें। उदाहरण के लिए छठी कक्षा एनसीईआरटी विज्ञान से खाद्य पदार्थों के अवयव" कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन विटामिन आदि के स्रोत आदि पर ध्यान देना चाहिए।

प्रश्न ६:-  मुझे कई लोगों ने पुरानी एनसीईआरटी पढ़ने की सलाह दी हौ कौन सा बेहतर है या नयी या पुरानी?
सामान्य विज्ञान के लिए, आप नयी एनसीईआरटी पुस्तक को पढ़ सकते हैं। कई छात्र शिकायत करते हैं कि नई एनसीईआर यूपीएससी की तैयारी के लिये अनुकूल नहीं है क्योंकि उनमें अब उसके पाठ्यक्रम और जानकारी का प्रवाह पुरानी पुस्तकों की अपेक्षा उतना केंद्रित नहीं रह गया है। हां यह सच है, लेकिन विज्ञान विषयों के विचार की तैयारी के विषय या टापिक की मुख्य जानकारीयों को पढ़ना चाहिए।

प्रश्न ७:-  क्या मुझे इन एनसीईआरटी से नोट्स बनानी चाहिए?
नहीं, हम आपको एनसीईआरटी के विज्ञान के लिए नोट बनाने की सलाह नहीं देते हैं। इस परीक्षा के लिए समय सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है। इसलिये, नोट बनाने में समय और ऊर्जा व्यर्थ करने के बजाय एनसीईआरटी पुस्तकों में हाइलाइर का इस्तेमाल कर चिह्न लगाने और  अध्ययन की रणनीति बनानी चाहिये।

प्रश्न८:-  यदि मैं एनसीईआरटी की प्रारंभिक परीक्षा में पढ़ता रहा हूं, तो क्या मुझे इन्हें मेन्स के लिये भी पढ़ने की जरूरत है?
अगर किसी ने प्रारंभिक परीक्षा में एनसीईआरटी से विज्ञान का अध्ययन किया है, तो उनके रिवीजन की योजना के पूरी तरह से अलग होगी। वे मूलभूत और जीव विज्ञान के अधिकांश भाग को छोड़ सकते हैं और केवल केस स्टडीज और उदाहरणों के अध्ययन पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं जिनका उपयोग वे मुख्य परीक्षा में उत्तर लिखने के लिये कर सकते हैं। क्योंकि जीएस पेपर III में, एक, दो या अधिकतम तीन विज्ञान और तकनीकी संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं और उन सभी का उत्तर दिया जा सकता है, यदि आपकी तैयारी में मौजूदा मामलों को ठीक से कवर किया गया हो।

प्रश्न ९:-  मैं एक कामकाजी पेशेवर हूं, मेरे पास मुख्य विषय पढ़ने का समय नहीं है? मैं विज्ञान के भाग को कैसे कवर कर सकता हूं?
यदि आप एनसीईआरटी के विज्ञान भाग को कवर करने के लिए समय आवंटित नहीं कर सकते हैं, चिंता करने की कोई बात नहीं आप नुकसान में नहीं हैं। लेकिन, आपको वर्तमान मामलों के भाग को पढ़ने के लिए समय आवंटित करना होगा। विज्ञान से संबंधित समसामयिकी और घटनाक्रमों से संबंधित मूलभूत जानकारियों और बिंदुओं को कवर करें।

प्रश्न १०: महोदय, प्रिलम के लिए परीक्षण श्रृंखला लिखना और उन सवालों की समीक्षा करने में कितना महत्वपूर्ण है?
योजनाबद्ध तैयारी के साथ नियमित टेस्ट पेपर लिखना और समीक्षा करना आपकी परीक्षा के लिये आपके दृष्टिकोण को सुव्यवस्थित करने में मदद करता है। इसके अलावा यह समय प्रबंधन का विकास करने में आपकी मदद कर सकता है।

प्रश्न ११:  यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा में कट ऑफ क्या है?
कई छात्रों का एक ही सवाल है। कट ऑफ कई चीजों पर निर्भर करता है जैसे कि उस वर्ष अधिसूचित पोस्ट की संख्या, प्रश्नपत्र की कठोरता, छात्र श्रेणी आदि। हालांकि यूपीएससी के शुरुआती परीक्षा के पिछले 7 सालों के आधार पर अगर कोई 60 प्रश्नों का सही उत्तर दे सकता है, तो वे पहले चरण को पास करने की उम्मीद कर सकते हैं।


data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Go to Monthly Archive