आईएएस परीक्षा के लिए समसामयिकी (करेंट अफेयर्स) की तैयारी कैसे करें।

यूपीएससी परीक्षा में वर्तमान मामलों की तैयारी के लिये रणनीति।


How to prepare Current Affairs for UPSC Exam

वर्तमान मामलों (करेंट अफेयर्स - Current Affairs) का अध्ययन आईएएस / यूपीएससी की तैयारी का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। इस बात का महत्व इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि प्रारंभिक और मुख्य दोनों में पूछे गए लगभग 40% प्रश्न इसी भाग से पूछे जाते हैं। वैकल्पिक रूप से, कोई भी यह भी माना जा सकता है कि पूछे गए सभी प्रश्नों के करीब 85% किसी न किसी प्रकार वर्तमान मामलों से जुड़े होते हैं। वर्तमान मामलों पर कुशलता से अपडेट रहने से आप आईएएस परीक्षा की दृष्टि के हमेशा दो कदम आगे रहेंगे। यदि हम इस परीक्षा से जुड़े पिछले कुछ वर्षों के प्रश्नपत्रों पर एक नज़र डालें तो एक दिलचस्प पता चलती है और वो ये कि परीक्षा में पूछा गया प्रश्न इतिहास या राज्यव्यवस्था से हो सकता है, लेकिन अगर गंभीरता से उसे समझें तो उनमें वर्तमान मामलों की छाप हो मिल सकती है। चलिये इसे समझनें के लिये कुछ उदाहरण लेते हैं।

पहला उदाहरण: प्रीलीम 2015 में एक प्रश्न 'संसद के संयुक्त सत्र' पर पूछा गया था जो कि भारतीय रज्यव्यवस्था भाग से है, लेकिन यूपीएससी द्वारा परीक्षा में पूछा गया यह मुद्दा परीक्षा से पहले समाचार पत्रों की सुर्खियों में था। क्योंकि सरकार जीएसटी के विषय में कानून पारित नहीं कर सकी, और इसके चलते संसद के संयुक्त सत्र को बुलाए जाने का विचार शुरू हुआ।

दूसरा उदाहरण: प्रीलिम्स 2013 में, लोक लेखा समिति (पीएसी) - Public Accounts Committee (PAC) पर एक प्रश्न पूछा गया। इसका कारण यह था कि यह समिति उस दौरान भारत में हुए कई घोटालों के विभिन्न पहलुओं पर जांच कर रही थी जैसे सीडब्ल्यूजी घोटाला - CWG Scam , कोयला घोटाला - Coal Scam, टूजी घोटाला - 2G Scam घोटाला। चूंकि इन घोटालों ने उस समय देश भर के समाचारपत्रों में सनसनी फैला रखी थी, इसलिए यूपीएससी ने परीक्षा में उनके और पीएसी के बारे में कुछ न कुछ  पूछा था। 2013 में भी, चूंकि कोयले के घोटाले ने सुर्खियाँ बनायी थी, इसलिए भारत में कोयले से संबंधित एक सवाल पूछा गया।

उपरोक्त उदाहरणों के प्रकाश में, कोई भी निश्चित रूप से यह मान सकता है कि वर्तमान मामले पाठ्यक्रम के अन्य सभी क्षेत्रों से सहसंबंध रखते हैं और वास्तव में अन्य विषयों के संदर्भ में भी यह पूरे पाठ्यक्रम में व्याप्त है। अब, हम इस परीक्षा में वर्तमान मामलों के महत्व को समझते हैं और समझते हैं वर्तमान मामलों के अध्ययन के साथ कैसे आगे बढ़ना है।

सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी शुरु करने के साथ ही एक राष्ट्रीय समाचार पत्र पढ़ना पहला कदम है। भारत और विदेशों में घटित होने वाली महत्वपूर्ण घटनाओं को जानने के लिए आप द हिन्दू या इंडियन एक्सप्रेस का चयन कर सकते हैं। इसमें दी गयी महत्वपूर्ण घटनाक्रमों और उनके विश्लेषण से संबंधित नोट्स बनाना इस प्रक्रिया का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कदम है। विभिन्न पहलुओं के लिए अपनी नोटबुक के अलग-अलग वर्ग निर्धारित करके अध्ययन की सामग्री बनाना एक आदर्श कदम है। उदाहरण के लिए, अपनी नोटबुक के एक भाग को राजनीति के लिए समर्पित करना, पर्यावरण के लिए दूसरा, और फिर अर्थव्यवस्था और इसी तरह सभी आवश्यक भागों के लिये ।

अपनी परीक्षा के सिलेबस से संबंधित/प्रासंगिक सभी मुद्दों को समझने के लिए आपको आर्थिक और राजनीतिक साप्ताहिक मैगजीन जैसे द हिन्दू फ्रंटलाइन - The Hindu Frontline, योजना - Yojana Magazine और कुरुक्षेत्र - Kurukshetra Magazine से अध्ययन करना चाहिए। लेकिन, याद रखिए, परीक्षाओं में पूछे जाने वाले प्रश्नों की प्रत्याशा आपके लक्ष्य का होना चाहिए। किसी को एक मुद्दे के सभी कोणों को कवर करने के लिए 5W और 1H रणनीति का पालन करने की जरूरत है और फिर दूसरी अर्थव्यवस्था के लिए और इसी तरह।

5W और 1H रणनीति (क्या, कहां, कब, कौन क्यों, कैसे): क्या हुआ है? कहां हुआ है? कब हुआ? इसमें कौन-कौन शामिल थे? यह क्यों तथा कैसे हुआ?

आपके द्वारा बनाये गये वर्तमान मामलों के नोट्स का साप्ताहिक पुनरीक्षण / रेवीजन बहुत ही अनुशंसित और आवश्यक है। इंडिया ईयर बुक - India Year Book को नियमित रूप से पढ़ना भी बेहद जरूरी है क्योंकि यह वर्तमान मामलों के महत्वपूर्ण क्षेत्रों को कवर करने में आपकी मदद करेगी।

संबंधित एवं महत्वपूर्ण लेख: यूपीएससी परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स की तैयारी कैसे करें।


कुछ अन्य उपयोगी लेख:

Report Error or Discrepancy


data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Go to Monthly Archive