90 दिनों में यूपीएससी आईएएस परीक्षा की तैयारी कैसे करें।

90 दिनों में आईएएस परीक्षा की तैयारी करने की रणनीति।


Crack UPSC in 80 Days

प्रतिवर्ष लाखों उम्मीदवार यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में भाग लेते हैं। लेकिन उनकी कठोर मेहनत व सही दिशा में की गई तैयारी से ही इस परीक्षा में सफलता सुनिश्चित होती है। आईएएस परीक्षा को पास करने में केवल कड़ी मेहनत बल्कि एक स्मार्ट सोंच और रणनीति का भी बहुत बड़ा योगदान होता है। बहुत से उम्मीदवार इस परीक्षा के तैयारी में बहुत सारा समय देते हैं और फिर भी सफल नहीं हो पाते हैं। इसका प्रमुख कारण यह है कि वे केवल हार्ड वर्क करते है जबकि, यदि हम यहां इस परीक्षा की प्रकृति को देखें तो इसमें सफल होने के लिये एक विशेष अथवा 'स्मार्ट वर्क' की आवश्यकता है। यही स्मार्ट वर्क या फिर कहें कि रणनीतिबद्ध  तैयारी ही अपको आपकी विफलताओं से विजेताओं की सूची में पहुंचाने का मंत्र है। इस लेख में हम आपको यह बताएंगे को कि आप कैसे 60 दिनों में यूपीएससी आईएएस परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं।

अपने अध्ययन के संसाधनों को संशोधित करें।

अध्ययन सामग्री का संशोधित व संयोजन इस परीक्षा की तैयारी का यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है जिसमें आपको अपनी तैयारी के आखिरी चरण में कोई नई अध्ययन सामग्री या पुस्तकों का अध्ययन नहीं करना है। क्योंकि इतने कम समय में नई-नई विषयवस्तुओं को समझना व उनका अध्ययन करना उचित नहीं है। इस तरह के अतिरिक्त अध्ययन के भार से आप भ्रमित और निराश भी हो सकते हैं, इसलिये हमेशा अच्छी एवं चुनिंदा पुस्तकों द्वारा ईमानदारी व व्यवस्थित तरीके से अध्ययन करें। आपकी तैयारी के अंत में संशोधन सबसे महत्वपूर्ण चरण है। उदाहरण के लिये यदि आपको लगता है कि आपने पहले  पढ़ चुके हैं वह अब आपको याद नहीं है या उस टापिक पर आपको अधूरी जानकारी है, तो यह संशोधन की कमी को दर्शाता है। ध्यान रहे कि केवल नियमित संशोधन ही आपको अवधारणाओं और तथ्यों को अंतर्निहित करने में मदद करेगा।

संबंधित लेख: सिविल सेवा परीक्षा के लिए अध्ययन सामग्री के चुनाव का महत्व।

आपकी प्राथमिकता क्या हो।

परीक्षा की तैयारी में आपकी गतिविधियां और उनकी प्राथमिकता इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। सबसे पहले आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप सीसैट (CSAT) में न्यूनतम 33% प्राप्त कर सकें। इसके लिये आप नकली अभ्यास के लिये टेस्ट सीरीज हल करें, और यदि आपको यह लगता है कि इन विषयों में अभी आपकी मूलभूत समझ विकसित नहीं हुई है तो उन विषयों का विशेष रूप से अध्ययन करें। याद रखें, कि यदि आप सीसैट (जीएस द्वितीय प्रश्न पत्र) में 33% सुरक्षित कर पाने में सक्षम नहीं है तो आपके जीएस प्रथम प्रश्नपत्र (सामान्य अध्ययन) का मूल्यांकन भी नहीं किया जाएगा। यूपीएससी पाठ्यक्रम के महत्वपूर्ण क्षेत्रों को भी प्राथमिकता देना चाहिए। पिछले वर्षों के आईएएस दस्तावेजों के माध्यम से जाओ और महत्वपूर्ण और महत्वहीन क्षेत्रों का पता लगाएं। और अधिक पढ़े।

संबंधित लेख: सिविल सेवा परीक्षा पैटर्न एवं पाठ्यक्रम

अभ्यास व परीक्षण की भूमिका।

यदि आपको आईएएस की तैयारी 90 दिनों में कुशलता पूर्वक करनी है, तो आपको नियमित तथा सुव्यवस्थित रणनीति के साथ अध्ययन करना होगा। परीक्षा देने से पहले आप यह सुनिश्चित कर लें, कि आपने सभी विषयों को सफलतापूर्वक संशोधित कर लिया हैं। यदि ऐसा नहीं है तो सर्वप्रथम उन क्षेत्रों/विषयों के अध्ययन में अधिक समय दें जिनमें आप कमजोर हैं। जैसा कि हमने ऊपर भी सुझाव दिया है कि इस अध्ययन प्रक्रिया में नकली टेस्ट सीरीज इत्यादि लाभदायक रहेंगे, साथ ही साथ इस प्रकार के टेस्ट देने से आप अपनी कमजोरियों और शक्तियों को समझ पाएंगे। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि वास्तविक परीक्षा में समय एक बहुत ही महत्वपूर्ण भाग होता है और इसी पूर्व निर्धारित समयावधि में हमें प्रश्नपत्र के प्रश्नों के सही उत्तर देने होते हैं। आपके प्रैक्टिस टेस्ट सीरीज / मॉक टेस्ट लेने के कारण आप प्रत्येक प्रश्न के लिए लगने वाले समय को विनियमित (रेगुलेट / Regulate) करना सीख सकते हैं।

संबंधित लेख: यूपीएससी परीक्षा के लिए टेस्ट सीरीज क्यों?

समाचार पत्रों का महत्व।

उम्मीदवारों के बीच अखबार पढ़ना तथा करंट अफेयर इत्यादि की तैयारी के बारे बहुत से भ्रम हैं। जैसे कि "मुझे अखबार पढ़ना चाहिये या नही अगर हां, तो क्या और कैसे", "करंट अफेयर क्या है और इसे कैसे तैयारे किया जाए?" इत्यादि। सच कहूँ तो, आपको उन्हें पढ़ना बंद ही नहीं करना चाहिए। इसका कारण यह है कि समाचार नवीनतम मौजूदा मामलों की जानकारी के लिए एक निरंतर व प्रमुख स्रोत हैं। इसके अलावा अखबार पढ़ने से आपको कई प्रकार की युक्तियां भी मिलेंगी जिससे आपको अपनी पठन-पाठन की भाषा को सुधारने में मदद मिलती है। इस प्रकार आप यूपीएससी सिविल सर्विसेज परीक्षा की तैयारी के दौरान धीरे-धीरे दैनिक समाचार पत्रों को पढ़ने में दिये गये समय को भी कम कर सकते हैं।

संबंधित लेख: सिविल सेवा परीक्षा के लिए उपयोगी हिंदी समाचार पत्र

आशा है कि आपको इस लेख में दी गयी जानकारी से मदद मिलेगी।


अन्य उपयोगी लेख

सुझाव व त्रुटियों की सूचना देने के लिये यहां क्लिक करें।


data-matched-content-ui-type="image_card_stacked"

Go to Monthly Archive